Image Description
उत्तराखंड

बिजली  उपभोक्ताओं को   बड़ी राहत , यूपीसीएल ने  बिल  की   गणना  में ये किया बदलाव 

Listen to this article

 उत्तराखंड  के  20  लाख  घरेलू  बिजली  उपभोक्ताओं को   बड़ी राहत   मिली   है। यूपीसीएल के     बिजली    बिल    की   गणना    के    समय   में   बड़ा बदलाव  किया है।   इस बदलाव से  लोगों  को   बिल कम   होने वाला  है। ऊर्जा निगम अब  तक बिजली  उपयोग करने का समय  15   दिनों से  अधिक  होने पर पूरे महीने का बिल तैयार करता है। 

इस नुकसान यह होता था कि भले ही उपभोक्ता ने बिजली का उपयोग 15 दिन  ही क्यों न  किया हो। इसी तरह बिजली  उपयोग का  समय   16  दिन या  उससे अधिक 45  दिन तक होने  की स्थिति में   भी एक महीने का बिल जारी किया जाता था। 46 दिन या उससे अधिक  75  दिन तक दो  महीने का बिल  जारी किया जाता था, जिससे  उपभोक्ता  को  स्लैब के अनुसार अधिक बिजली दरों का भुगतान करना पड़ रहा था।

यूपीसीएल ने अब नया   बिलिंग शेड्यूल   जारी  कर दिया  है। इसमें हर महीने का बिल 25 से   35 दिन  और  दो महीने का  बिल   55 से  65  दिन  के भीतर तैयार   किया   जाएगा।  इसमें  भी  जितने    दिनों  का “बिल  तैयार  होगा, भुगतान उसी   के  अनुरूप   तय दरों    के अनुसार करना   होगा।  इससे उपभोक्ताओं का  बिजली बिल  ज्यादा  दरों  वाले  स्लैब तक  नहीं पहुंच सकेगा। यह व्यवस्था लागूं कर दी गई है।

ऊर्जा  निगम  ने   एक   महीने  में  30.417   दिन  तय किए  हैं।  अगर  आपका  बिजली  बिल  50  दिन  में  आता है, तो आपकी 100 यूनिट तक बिजली खर्च तय करने का सिस्टम बदल जाएगा 100 यूनिट को 50   से गुणा करने  के बाद   आने  वाले  आंकड़े  को  30.417     दिन     से    भाग    देने     पर        आनी    वाली 164.38 यूनिट को पहला स्लैब माना जाएगा।

बिजली बिल का  जो पहला स्लैब 100  यूनिट तक माना   जाता  है।   वो  50    दिन  के   बिल    पर  पहला स्लैब    164.38   यूनिट   माना   जाएगा।     इस   तरह आम   लोगों   को   पहले   स्लैब   के   रूप   में   64.38  यूनिट    का   अतिरिक्त  लाभ  मिलेगा।   यही  फार्मूला अन्य   स्लैब    पर   भी  लागू   होगा।   नई  व्यवस्था   में  फिक्सड चार्ज की  गणना भी हर महीने की बजाय  प्रतिदिन के अनुसार होगी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button